कोरोना वायरस के कारण देश में चल रहे लॉकडाउन का सबसे अधिक खामियाजा यदि कोई भुगत रहा है तो वह है इस देश का प्रवासी मजबूर। काम की तलाश में अपने घर से हजारों किलोमीटर दूर रहने आया यह प्रवासी मजदूर (Migrant Workers) आज अपने गावं जाने के लिए दर दर भटक रहा है। हालाँकि सरकार की तरफ से आपको घर जाने के लिए ट्रेन से लेकर प्लेन हर तरह की सुविधा उपलब्ध करवाई जा रही है। लेकिन शायद इन प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) को घर जाने के लिए ना तो वह ट्रेन नसीब हुए और ना ही बस। रही बात प्लेन से जाने की तो उसमे जाने के सपने यह देखते नहीं। प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) की हो रही इस दुर्दशा पर अब माननीय सुप्रीम कोर्ट को खुद सामने आना पड़ा है।
By: Pinks Tea
2020-06-01
Comments
No one has Commented on this post yet.
Related Posts
All information national international news and current affairs, samaji siyasi milli fikri, mazameen...
The Indian Armed Forces are in dire straits due to severe cold in Ladakh or La-Dvagas. Because, in h...
Behind every dollar every coin is a story a value to today and possibly tomorrow. Here we split thro...
Best cleaning service Singapore – Owing to the busy lifestyle that most us lead, finding time to kee...
अमेरिका में इस साल नवंबर में होने वाले चुनाव को लेकर सियासी पारा चढ़ने लगा है। अब तक अमेरिका में राष्...
कोरोना महामारी का प्रकोप देश में लगातार जारी है। पिछले कुछ दिनों की बात करें तो देश में कोरोना वायरस...
शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लद्दाख का अकस्मात दौरा किया था। जिसकी कई तस्वीरें सोशल मीडि...
एक तरफ सम्पूर्ण विश्व के लोग कोरोना महामारी के खौफ से बचने के लिए घरों से बाहर निकलने में कतरा रहें...
प्रधानमंत्री मोदी शुक्रवार की सुबह अचानक लद्दाख पहुंचे। इस दौरान प्रधानमंत्री मोदी के साथ चीफ ऑफ डिफ...
भारतीय रेलवे द्वारा जल्द ही तकरीबन 45 जोड़ी यानी 90 नई स्पेशल ट्रेनें चलाई जा सकती है। सूत्रों के अन...